स्वप्न स्थान (Dreamscape)

एक ऐसी जगह Wanderer-Above-the-Sea-of-fogपर जाता है मन जो दूर नहीं पर पास भी ना हो

जहाँ आग सी तपती रेत पर एक शीतलता सी भिछ्ती हो

जहाँ दूर दूर तक तरु नहीं पर छाव हमेशा मिलती हो

जहाँ प्यास बुझाने को नीर नहीं पर दरिया गहरी बहती हो

एक ऐसी जगह पर जाता है मन जो दूर नहीं पर पास भी ना हो

जहाँ रात के उजले साये में एक दिन नया सा दिखता  हो

हो ख्वाहिश बड़ी दिल में पर पाने की कुछ आस न हो

एक ऐसी जगह पर जाता है मन जो दूर नहीं पर पास भी ना हो

   हो दूर बहुत में दुनिया से एक दुनिया मेरे पास ही हो

   संसार लिए मैं फिरता हूँ पर कहने को एकाकी हूँ

   एक ऐसी जगह पर जाता है मन जो दूर नहीं पर पास भी ना हो…

[Note: The photo is a reproduction of  the oil painting “Wanderer above the Sea of Fog” by the German Romantic artist Caspar David Friedrich. The poem is mine.]

Share Button

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of